एक आदमी था । उसकी 3 शादियां हो चुकी थी । उसकी पहली शादी तीन-चार साल तक अच्छी चली फिर उनको बेबी हो गया. बेबी के आने के बाद उसकी वाइफ का सारा अटेंशन उनके न्यू बोर्न बेबी की ओर चला गया.

पति को लगने लगा कि जैसे घर में उसकी कोई इम्पोर्टेंस ही नहीं है. जब उसने ये बात अपनी वाइफ को बोली तो उसका कहा कि चौबीस घंटे नर्स बनकर बेबी की देखभाल करना कोई मज़ाक नहीं है बल्कि उसे भी इस काम में उसकी हेल्प करनी चाहिए.

अपनी वाइफ की ये बात सुनकर उसे और भी बुरा लगा और फिर उनके बीच दूरी बढती चली गई. दोनों एक दुसरे को समझ ही नही पा रहे थे जिसकी वजह से उनके बीच प्यार जैसी कोई चीज़ नहीं रह गयी थी. फिर एक दिन दोनों इस बात के लिए एग्री हो गए कि उन्हें डीवोर्स ले लेना चाहिए और इस तरह ये शादी टूट गयी.


उसकी दूसरी शादी शुरुवात से ही अच्छी नहीं थी. सिर्फ सिक्स मंथ्स की डेटिंग के बाद दोनों ने शादी कर ली थी.

उन्हें अपने हनीमून पे इतना बुरा एक्स्पेरियेंश हुआ कि वे कभी इस बात को भूल ही नहीं पाए. शादी से पहले ये एक व्हर्लविंड रोमांस था और शादी के बाद असली जंग शुरू हुई. फिर जल्दी ही ये दूसरी शादी भी नहीं टिकी और उस आदमी का एक बार फिर से डीवोर्स हो गया. फिर तीन साल बाद वो और एक लड़की से मिला जिससे उसने दो साल डेटिंग के बाद शादी कर ली. इस लड़की के साथ शादी करने से पहले उनके रिश्ते बड़े अच्छे थे. इस लड़की के जितना पोजिटिव पर्सन उसे आज तक नहीं मिला था.

मगर शादी के कुछ मंथ्स बाद ही वो छोटी-छोटी बात पर कम्प्लेंट करने लगी जैसे “तुमने कूड़ा बाहर क्यों नहीं रखा या कपडे सुखाने क्यों नहीं डाले”. फिर कुछ दिन बाद उसने उस आदमी के केरेक्टर पर सवाल उठाना शुरू कर दिया. वो उसे कहती थी कि “मै तुम पर ट्रस्ट नहीं कर सकती, तुम्हारा बाहर अफेयर चल रहा है.

उसकी शिकायते रोज़-रोज़ बढती जा रही थी और वो नेगेटिव बिहेव करने लगी थी. उनकी मैरीड लाइफ में कुछ भी ठीक नहीं था और फिर एक दिन उस आदमी ने अपनी थर्ड वाइफ को भी छोड़ने का मन बना लिया. उसके दिल में उस लड़की के लिए प्यार खत्म हो चूका था. और इस तरह फिर तीसरी बार उसका डीवोर्स हो गया. 

ऐसे हज़ारो लोग है जो शादी करने के बाद डिवोर्स ले लेते है. ज्यादातर शादियाँ इसलिए नहीं टूटती कि उसे बचाने के लिए कोई सिंसियर एफर्ट नहीं हुआ बल्कि इसलिए क्योंकि Love को Wrong Way में एक्सप्रेस किया गया. फिर वे अपने फ्रेंड्स, थेरेपिस्ट और काउंस्लर्स से वजह पूछते रहते है कि आखिर ऐसा क्यों हुआ ? इस सवाल का सीधा जवाब ये है- मैरीड लाइफ में एक रोमांटिक लव की डिजायर होना ह्यूमन साइकोलोजिकल मेकअप है. इसलिए आपको अपने पार्टनर को अटेंशन देने की ज़रूरत है और आपको उसकी प्राइमरी लव लेंगुएज सीखनी पड़ेगी.

हर इंसान की एक डिफरेंट लव लेंगुएज हो सकती है इसलिए आपको अपनी और अपने पार्टनर की लव लेंगुएज आइडेंटीफाई करनी होगी जिससे आप एक लॉन्ग लास्टिंग हैप्पी मैरीड लाइफ का मज़ा ले सके. 

आशा करता हूं कि आपको हमारा ये लेख अच्छा लगा हो, इसे अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करना।

Thank you

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat